म्युचुअल फंड और SIP में क्या अंतर है

0
494
म्युचुअल फंड और SIP में क्या अंतर है

नमस्कार दोस्तों आज हमलोग जानेंगे म्युचुअल फंड के बारे में आप लोगों ने जरूर म्युचुअल फंड का नाम सुना होगा. तो आज हम लोग म्युचुअल फंड के साथ-साथ SIP के बारे में भी जानेंगे  आखिर यह SIP क्या होता है तो दोस्तों आज हम लोग म्युचुअल फंड और SIP के के बारे में जानेंगे और इन दोनों में क्या-क्या अंतर है. तो चलिए बिना देर किए जानते हैं?म्युचुअल फंड और SIP में क्या अंतर है

 म्युचुअल फंड क्या है

कुछ लोग यह समझ नहीं पाते है कि SIP क्या है लेकिन SIP को जानने से पहले आपको म्युचुअल फंड के बारे में जानना पड़ेगा. तो चलिए जानते हैं म्यूचुअल फंड क्या है? म्युचुअल  फंड जिसे हिंदी में पारस्परिक निधि भी कहते हैं यह एक प्रकार का सामूहिक निवेश होता है. यह फंड अपने निवेश को के साथ मिलकर स्टॉक, अल्प विधि या फिर अन्य प्रतिभूतियों में अपने निवेश को के साथ मिलकर यह निवेश कराता है.

म्युचुअल फंड स्टॉक मार्केट के आधार पर काम करता है.म्युचुअल फंड में एक फंड प्रबंधक होता है जो फंड के निवेशकों को निर्धारित करता है और लाभ हानि का हिसाब रखते हुए जो भी फायदे नुकसान होता हुआ निवेशकों में बांट देता है. सरल भाषा में समझे तो म र्चुअल फंड एक ऐसा बकेट है जिसमें फंड हाउस अलग-अलग लोगों से पैसा इकट्ठा करके जमा करता है. जिसका उपयोग फंड हाउस बाजार से विविध प्रकार के शेयर खरीदने में करते हैं.

म्युचुअल फंड का मूल्य ट्रेडिंग डे के अंत में  NAV यानी कि Net Asset Value के आधार पर निकाला जाता है. किसी म्युचुअल फंड स्कीम को फंड मैनेजर द्वारा संचालित किया जाता है. म्युचुअल फंड में निवेश करने के दो मुख्य तरीके हैं पहला SIP और दूसरा Lumpsum. म्युचुअल फंड स्टॉक मार्केट पर आधारित है अगर आप ज्यादा रिस्क लेकर स्टॉक मार्केट में सीधा निवेश नहीं करना चाहते हैं तो आप म्युचुअल फंड में कम रिस्क पर निवेश कर सकते हैं इसके लिए आप SIP या फिर Lumpsum इन दोनों में से किसी भी विकल्प का उपयोग कर सकते हैं.

SIP क्या है?

SIP यानी कि Systematic Investment Plan. इसमें निवेशक अपने लक्ष्य एवं उद्देश्यों के अनुसार निवेश करते हैं. SIP में एक निश्चित समय आमतौर पर एक महीने के अंतराल में पैसा म्युचुअल फंड में डाला जाता है जिससे लगातार पैसा म्युचुअल फंड में जमा होता रहता है,और आप लंबे समय में अच्छी इनकम बना पाते हैं. SIP एक ऐसा बेहतरीन तरीका है जो कम रिस्क के साथ लंबे समय तक के बाद अच्छा रिटर्न देता है. अब चलिए जानते हैं म्यूचुअल फंड और SIP में अंतर क्या है?

म्युचुअल फंड और SIP में क्या अंतर है

दोस्तों SIP एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा आप म्युचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं. म्युचुअल फंड की अधिकतर स्कीम में SIP के माध्यम से निवेश का विकल्प मौजूद रहता है.आपने कई बार सुना होगा कि म्यूचुअल फंड में निवेश करो परंतु म्युचुअल फंड में निवेश करें कैसे यह एक प्रमुख सवाल रहता है. SIP वह माध्यम है जिससे हमें म्युचुअल फंड में निवेश करने की सुविधा उपलब्ध कराता है जिसमें आप थोड़ा-थोड़ा करके म्युचुअल फंड में निवेश करते रहते हैं.

SIP इन्वेस्टमेंट से क्या लाभ है

तो दोस्तों अब हम लोग जानेगें कि SIP से इन्वेस्ट करने से क्या फायदा हम लोग को होती है तो चलिए जानते हैं? SIP से इन्वेस्टमेंट करने पर हमें rupee average cost का फायदा मिलता है. आपकी SIP हर प्रकार की स्थिति वाले मार्केट में जाती है जो cost को average करने में कामयाब रहती है.लंबे समय में अपने कपाउंडिंग रिटर्न के कारण SIP बहुत अच्छा रिटर्न दे सकती है.आप जितने समय के लिए इसमें इनवेस्ट करेंगी अपना मुनाफा उतना ही अधिक होगा.

SIP में निवेश करने पर निवेशक के ऊपर कोई बड़ा वित्तीय बोझ नहीं होता है. आप काम राशि से भी SIP में निवेश कर सकते हैं. SIP में निवेश करने की लागत में नाम मात्र के ही होती है जिसकी वजह से आपको प्रोफेशनल एक्सपर्ट की सेवाएं भी मिल जाती है.तो दोस्तों किसी भी म्युचुअल फंड स्कीम में आप सिस्टम के अनुरूप से निवेश करके आप पैसा बना सकते हैं कम निवेश की आवश्यकता के कारण कोई भी SIP के जरिये निवेश कर सकता है. तो दोस्तों आपको यह पोस्ट कैसी लगी अगर अच्छी लगी है तो शेयर जरूर करें.

Dream11 क्या है ड्रीम11 का अकाउंट कैसे बनाए?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here